10 बेहतरीन मुखवास रेसिपी

मुखवास यह खाना खाने के बाद खाया जाने वाला एक mouth फ्रेशनर है । अगर आप अपने मुंह और मूड को तरोताजा महसूस करने लगते हैं।  यह न केवल आपको स्वाद देता है । बल्कि यहां हमारे द्वारा खाने को पचाने का भी कार्य करता है । मुखवास खाने के बहुत फायदे होते हैं , लोगों को कितना भी अच्छा खाना दिया जाए पर अंत में जो मुखवास  दिया जाता है उसी से बात बनती है। और है होटलों में भी मुखवास तो दिया ही जाता है।  आजकल मुखवास में भी इतनी वैरायटी आ गई है कि क्या बताएं ! एक से बढ़कर एक ,अनेक प्रकार के मुखवास बनाए जाते हैं । आप भी घर पर बड़ी आसानी से मुख्वास बनाकर उसका मजा ले सकते हैं । आइए आज के ब्लॉक में हम आपको १०  बेहतरीन मुख्वास की रेसिपी देंगे जिसे पढ़कर आप भी तुरंत इसे बनाना सीख जाएंगे ।

1 सौंफ का मुखवास

इसके लिए आपको सौंफ को अच्छे से साफ करके फिर उसमें नींबू का रस व नमक हल्दी मिक्स करके अच्छे से हाथों से मिक्स करके थोड़ी देर रख देना हैं।  कढ़ाई में डालकर धीमी आंच में क्रिस्पी कड़क होने तक भूनना है तैयार है सौंफ का मुखवास । इसे आप एयर टाइट डब्बे में भरकर महीनों तक खा सकते हैं । सौंफ हमारे रक्त को शुद्ध कर पाचन अच्छा करता है ,और मुंह की दुर्गंध भी हटाता है

2 अलसी का मुख्वास

अलसी के बहुत ही फायदे हैं । इसे हमें अपने खाने में जरूरी शामिल करना है । इसके लिए अलसी को साफ कर इसमें नींबू और नमक हल्दी मिलाकर रख दे फिर एक कढ़ाई  में इसे डाल कर भुनले । धीमी आंच में ऐसे क्रिस्पी होने तक भूने तैयार है स्वादिष्ट अलसी का मुख्वास । इसे भी एयर टाइट डब्बे में भरकर काफी दिनों तक खाया जा सकता है

3 स्पेशल मिक्स मुख्वास

इसके लिए हमें सौंफ ,सफेद तिल, धनिया दाल तीनों को बराबर मात्रा में लेना है तीनों को अलग-अलग बर्तन में रखकर नींबू और नमक ,  हल्दी मिक्स कर थोड़ी देर रखना है फिर कढ़ाई में पहले सौंफ सेंकनी  है थोड़ी सौंफ भून जाने पर धनिया दाल व तिल डालकर भूनना है । यह पूरी प्रक्रिया में गैस की फ्लेम स्लो ही रखनी चाहिए तभी मुख्वास धीमी आवाज में बढ़िया सिकता  है वह जलता नहीं है वरना जलने  की संभावना रहती है।  गुजराती लोग इसमें अजवाइन है व सोवा भी डालते हैं।  यह आपकी इच्छा और स्वाद पर निर्भर है।

4 नमकीन आंवले का मुख्वास

इसके लिए जब आंवले का सीजन हो , आंवले लेकर धोकर थोड़ा उबाल लीजिए। उबालने पर उसे किस लीजिए या बारीक टुकड़ों में काट लीजिए। फिर इसमें सादा / काला डालकर 6-7 घंटे ढक कर रख दे। इसे धूप में एक थाली में रखकर कड़क सूखा लीजिए। लीजिए तैयार है आंवले का चटपटा मुख्वास।  हमारी आंखों व बालो  के लिए भी फायदेमंद है।

5 आंवला कैंडी मुख्वास

यह एकदम चॉकलेट जैसा लगने वाला कैंडी मुख्वास है। इसके लिए हमें सबसे पहले आवलो को धोकर एक सिटी लगवा लेना है, जिससे आंवले की कलियां अलग-अलग हो जाएंगी । एक डब्बे में शक्कर डालकर आंवले की कलियां डाल दीजिए। जैसे एक किलो आंवला है तो 1 किलो ही शक्कर डाल दीजिए। फिर उसे  एक रात छोड़ दीजिए।  अच्छे से अगर शक्कर घुल  गई हो वहा उन्होंने रस पी लिया हो तो उसे साफ कपड़े में धूप में फैला दीजिए।( 1-1 बिछाकर) अगर शक्कर नहीं घुली  है तो और भी 5 -6 घंटे रहने दे फिर सुखाय , तभी वह मिठास पकड़ेंगे। अच्छे से दो-तीन दिन कड़क धूप में सुखाकर एयरटाइट डिब्बे में भरकर रख दीजिए।  यह बच्चों को कैंडी की तरह दीजिए जिससे उन्हें भी आवलो का फायदा मिले व  बच्चे तो सूखते – सूखते  ही आधा खा जाएंगे।  यह इतना टेस्टी बनता है। एक बार जरूर बना कर देखिए यह  आंवला कैंडी मजा ही आ जाएगा।

6 अजवाइन मुख्वास

हमारे पेट के लिए बड़ी फायदेमंद होती है। इसमें गैस, भारी पेट की समस्या में छुटकारा मिलता है। इस मुख्वास को बनाने के लिए सबसे पहले अजवाइन को अच्छे से साफ करके उसमें नींबू का रस में नमक डालकर मिक्स करके थोड़ी देर तक ढक कर रख दें। फिर कढ़ाई में डालकर धीमी आंच में भुने।  थोड़ी देर में यह भून जाती है लगातार चलाते रहिए। तैयार है यहां ज्वाइन का मुखवास।

7 अदरक का मुख्वास

इसके लिए आप अच्छे से अदरक को धोकर छीलकर लंबे लंबे टुकड़ों में पतला पतला काट लीजिए । अब इसमें नींबू का रस व काला नमक, हींग डालकर, अच्छे से मिक्स करके  7 घंटे के लिए छोड़ दीजिए। थाली में नमक का पानी निचोड़ कर बिछाकर कड़क धूप में सुखा लीजिए। व एक-दो दिन सूखने दीजिए। तैयार है अदरक का मुखवास, यह भूख लगने के लिए भी काफी कारगर मुखवास है

8 पान मुख्वास

इसके लिए आप नागरवेल  के पान को धोकर , उसकी डांडिया काटकर बारीक बारीक काट लीजिए। फिर एक बाउल में सौंफ , धनिया दाल, मीठी सौंफ, सुपारी की कतरन, टूटी फ्रूटी , कत्था , थोड़ा सा चुना, खजूर कतली, गुलकंद डालकर मिक्स कर लीजिए फिर इस मिश्रण में पान के पत्ते जो बारीक काट कर के रखे हैं वह डालिए तैयार है  पान मुख्वास!  इस मिश्रण में पान का मसाला , एक चमन बहार ,एक चम्मच  डालने से बिल्कुल बाहर के पान का टेस्ट आता है।  इसे भी आप एयरटाइट कंटेनर में स्टोर कर रख सकते हैं।

9 मल्टी मुख्वास

या मुखवास काफी कलरफुल होता है व इसमें थोड़ा ज्यादा सामग्री लगती है।  पर यहां एकदम rich व tasty ऐसा मुखवास बनता है सबसे पहले एक बाउल में सौंफ  और सोवा  को नींबू का रस और नमक हल्दी डालकर मिक्स करके अलग रख दें।  फिर दूसरे बाउल में तिल, अलसी , अजवाइन, चिया सीड्स को रखकर नींबू का रस और नमक हल्दी मिक्स करके अलग रख दें फिर तीसरे बाउल में मगज के बीज सनफ्लावर सीड्स,  पंपकिन सीड्स , नींबू ,नमक , हल्दी डालकर अलग रखें फिर सबसे पहले सौंफ वाला मिश्रण सेंके।  फिर तिल वाला, फिर सीड्स वाला मिश्रण।  बारी बारी अलग अलग  से सेंके।  क्योंकि सबको सीखने में टाइम अलग-अलग लगता है इसलिए अलग-अलग बैच में सेंके, फिर एक बड़े बॉल में यह तीनों मिश्रण को मिक्स करें। फिर इसमें थोड़ा खजूर के टुकड़े भी भून कर डालें। वह एक छोटा चम्मच पान मसाला मिलाएं लीजिए बन गया कलरफुल मुख्वास।

10 सौंफ मिश्री मुख्वास

इसके लिए आप सौंफ या तो सेंक ले या तो कच्ची सौंफ  लेकर उसके साथ मिश्री के टुकड़े मिक्स कर खाये।  यह आपको हर होटलो  में आराम से दिखने वाला मुखवास है यह बहुत ही फेमस मुख्वास है इसमें सौंफ और मिश्री दोनों को मिलाकर एक साथ खाया जाता है

निष्कर्ष

आज के इस blog  में आपको अनेक प्रकार के मुख्वास सीखने को मिल। यह सभी अपनी गुणवत्ता व टेस्ट के लिए फेमस मुखवास की श्रेणी में आते हैं।  इसे आप आसानी से घर पर बना कर इसका लुत्फ़ उठा सकती है एक बार खाएंगे तो बार-बार मन होगा यह ऐसे मुखवास  है इसलिए बनाइएगा  जरूर ! धन्यवाद !!!

Leave a Comment